दर्द भरी हिन्दी शायरी

दर्द भरी हिन्दी शायरी

जो
आपने न लिया हो, ऐसा कोई इम्तहान न रहा,
इंसान आखिर मोहब्बत में इंसान न रहा,
है कोई बस्ती, जहा से न उठा हो ज़नाज़ा दीवाने का,
आशिक की कुर्बत से महरूम कोई कब्रस्तान न रहा,

हाँ वो मोहब्बत ही है जो फैली हे ज़र्रे ज़र्रे में,
न हिन्दू बेदाग रहा, बाकी मुस्लमान न रहा,

जिसने भी कोशिश की इस महक को नापाक करने की,
इसी दुनिया में उसका कही नामो-निशान न रहा,

जिसे मिल गयी मोहब्बत वो बादशाह बन गया,
कुछ और पाने का उसके दिल को अरमान न रहा,

Incoming search terms:

  • शायरी
  • हिंदी शायरी
  • हिन्दी शायरी
  • शायरी हिन्दी
  • दर्द भरी शायरी
  • हिन्दीसायरी
  • शयरी
  • हिन्दी शयरी
  • शायरी की दुनिया
  • yhs-004
  • शायरी हिन्दी में
  • शायरी दिल से
  • मोहब्बत शायरी
  • शायरी हिंदी
  • हिंदी शायरी दर्द
  • हिन्दीशायरी
  • शायरी हिंदी में
  • हिन्दी शायरी pdf
  • हिन्दी शायरी -
  • हिन्दी शायरियों
No tags for this post.